जैसे-जैसे समय आगे बढ़ रहा है वैसे-वैसे अपराध करने के तरीके भी बदल रहे हैं। इस मामले में साइबर फ्रॉड के मामले सबसे आगे चलते हुए नजर आ रहे हैं। उत्तराखंड में साइबर फ्रॉड के मामलों में साल दर साल काफी ज्यादा बढ़त देखने को मिल रही है। जिस तरह से अपराध के मालमे बढ़ रहे हैं वो एक चिंता का विषय है। नए तरीके से इन अपराधिक मामलों को सुलझना एक बड़ी चुनौती है। साल 2018 से साल 2020 तक के साइबर अपराधों पर नजर दौड़ाएं तो ये मामले तीन गुना से अधिक हैं।

साइबर सेल में जो शिकायतें आईं हैं वो कुछ इस तरह से है-

  • 736 शिकायतें 2018 में आई है।
  • 1308 शिकायते 2019 में आई है।
  • 2119 शिकायते 2020 में आई है।

आंकड़ों पर यदि गौर किया जाए तो वो दिन दूर नहीं है जब राजधानी देहरादून साइबर क्राइम की कैपिटल बन जाएगी। इसके अलावा एसटीएफ और साइबर क्राइम पुलिस का ये कहना है कि उनकी ओर से खिकायतों पर जहां लगातार कार्रवाई की जा रही है। वही, लोगों को भी जागरूक होने की आवश्यकता है इसको लेकर कहा जा रहा है। इस मामले को लेकर एएसपी एसटीएफ चंद्र मोहन सिंह ने ये बताया है कि आज नए-नए तरीके से साइबर अपराध पनप रहा है। ऐसे में लोगों को बेहद ही ज्यादा सतर्कता के साथ रहने की आवश्यकता है।

जानिए किस तरह से अपराध को हाल ही में अंजाम दे रहे है अपराधी

  • बेरोजगारों को सरकारी नौकरी दिलाने के मान पर झांसे देते हुए।
  • कौन बनेगा करोड़पति में पैसे जीतने के लिए फर्जी कॉल आना।
  • खुद को बैंक का अधिकारी बताकर लोगों से ओटीपी लेना।
  • लॉटरी बताकर कस्टम चार्ज के नाम पर लोगों से ठगी करना।
  • क्यूआर कोड भेजकर लोगों से ठगी करना।

इसी चीज को लेकर साइबर क्राइम के सीओ अंकुश मिश्रा ने बताया कि अधिकतर लोग सोशल मीडिया पर एक्टिव है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर फेक आईडी बनाकर ठगी के केस इस वक्त सामने आ रहे हैं। ऐसे में लोगों को अपनी प्रोफाइल की प्राइवेसी के बारे में जानकारी होना उनके लिए जरूरी है। क्योंकि ठग करने वाले वैसी ही प्रोफाइल बनाकर जानने वालों से पैसों लूटने का काम करते हैं। इसके अलावा ही बेरोजगारों को सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर भी लगातार कई शिकायतें साइबर क्राइम को मिल रही है।

साइबर अपराध से खुद को आप ऐसे बचाकर रखें

  • आप अपनी पर्सनल चीजें फोन पर कभी भी शेयर न करें।
  • बैंक आपसे फोन पर कुछ भी जानकारी मांगे तो आप बिल्कुल भी न दें।
  • गूगल पर मौजूद सामने आए कस्टमर केयर नंबरों पर बिल्कुल भी भरोसा न करें।
  • सोशल मीडिया पर किसी अंजान व्यक्ति/ महिला से दोस्ती ना करें।

आप साइबर क्राइम के बढ़ते केस के दौर में जरूरत कि मुताबिक तकनीक और इंटरनेट का इस्तेमाल करते वक्त ज्यादा समझदारी दिखाएं। एक गलती आपकी मेहनत की कमाई को साइबर ठगों के खाते में आपके पैसे पहुंचा सकती है। साइबर ठगों के निशाने पर अब अधिकतर भोले-भाले लोग आए हैं। जोकि आसानी से उनकी बातों में आ जाते हैं।

Leave a Reply