Dog Behavior Research
Photo Source: totpi.com

Dog Behavior Research: कुत्तों को दुनिया का सबसे वफादार जानवर माना जाता है, फिल्मों से लेकर कहानियों तक में आपने सुना होगा. जिन लोगों को पालतू जानवरों से प्यार होता है या फिर जिन्होंने कभी अपने घरों में पालतू जानवर पाला है वो इस बात को बखूबी समझते हैं लेकिन साइंस के लिए यह हमेशा से एक पहले रहा है कि आखिर ऐसी क्या वजह है कि तमाम जानवरों के विपरित, कुत्ते खुद की जान बचाने के बजाय अपने मालिक की जान बचाते हैं. अब इससे जुड़ा एक रिसर्च भी सामने आया है. जिसके अनुसार कुत्ते तब तक अपने मालिकों को बचाने की कोशिश करते हैं जब तक वो जानते हैं कि इसे कैसे करना है. 

पीएलओएस वन जर्नल में प्रकाशित निष्कर्षों के लिए, शोधकर्ता यह जानना चाहते थे कि कुत्ते अपने मालिकों को बचाने के लिए कैसे मौके लेते हैं. अमेरिका के एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता जोशुआ वान बोर्ग ने कहा, “कुत्तों को किसी को बचाते हुए देखना आपको ज्यादा कुछ नहीं बताता, मुश्किल चुनौती यह जानना है कि वे ऐसा क्यों करते हैं.” परिणाम जानने के लिए रिसर्च टीम ने अपने मालिकों को बचाने के लिए 60 पालतू कुत्तों की प्रवृत्ति का आकलन करने एक प्रयोग किया. इस तरह के प्रयास में किसी भी कुत्ते ने कोई प्रशिक्षण नहीं लिया था. 

मुख्य परीक्षण में, प्रत्येक मालिक को हल्के वजन वाले दरवाजे लगे एक बड़े बॉक्स में रखा गया, जिसे कुत्ता एक तरफ ले जा सकता था. मालिकों ने ‘मदद’ या ‘मेरी मदद करो’ कहकर उस दरवाजे को हटाने के लिए कहा. शोधकर्ताओं ने मालिकों को पहले से प्रशिक्षित किया था, ताकि मदद के लिए उनका रोना असली लगे. वान बोर्ग ने आगे कहा, “लगभग एक-तिहाई कुत्तों ने अपने परेशान मालिक को बचाया, जो अपने आप में बहुत प्रभावशाली नहीं है, लेकिन वास्तव में प्रभावशाली है जब आप इसे करीब से देखते हैं.”

अध्ययन के अनुसार, ऐसा इसलिए है, क्योंकि यहां दो चीजें दांव पर हैं. एक, कुत्तों की अपने मालिकों की मदद करने की इच्छा है, और दूसरा यह है कि कुत्तों ने उस सहायता की प्रकृति को अच्छी तरह से समझा है. जबकि एक अन्य परीक्षण में, जब कुत्तों ने शोधकर्ता को बॉक्स में भोजन रखते हुए देखा, तो 60 में से केवल 19 कुत्तों ने भोजन लेने के लिए बॉक्स को खोला. जबकि इससे अधिक कुत्तों ने अपने मालिकों को बचाने के लिए बॉक्स खोला था. 

Leave a Reply