Leslie Hylton
एक पुरानी तस्वीर में Leslie Hylton अपनी टीम के साथ

Leslie Hylton: अगर आप क्रिकेट के फैन हैं तो आप जानते होंगे कि क्रिकेट खेल के शुरुआती दिनों में वेस्टइंडीज का बोलबाला हुआ करता था. वेस्टइंडीज ने कई ऐसे दिग्गज खिलाड़ी दिए हैं जिनके परफॉर्मेंस की मिसालें आज तक दी जाती हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं वेस्टइंडीज के ही एक खिलाड़ी को फांसी की सजा दी जा चुकी है. भले ही यह आपको सुनने में अजीब लगे, लेकिन यह 100 फीसदी सच है. वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज लेस्ली हिल्टन (Leslie Hylton) दुनिया के एक मात्र ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्हें फांसी पर चढ़ाया गया था. 

कौन है वो क्रिकेटर

लेस्ली हिल्टन (Leslie Hylton) ने अपनी ही पत्नी की हत्या कर दी गई थी जिसकी वजह से उन्हें सजा-ए-मौत का फरमान सुनाया गया था. लेस्ली को साल 1955 में फांसी पर चढ़ाया गय़ा था. 

लेस्ली हिल्टन (Leslie Hylton) का क्रिकेट करियर 

लेस्ली ने 6 टेस्ट मैच खेले थे और 16 विकेट लेने में कामयाबी हासिल की थी. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में लेस्ली ने 35 टेस्ट मैच खेले थे. हिल्टन ने इंग्लैंड की टीम के खिलाफ अपना डेब्यू किया था. 

वाइफ को क्यों मारी गोली 

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार लेस्ली हिल्टन ने 1942 में लर्लिन रोज नाम की महिला के साथ शादी की थी. शादी के कुछ सालों तक तो सब ठीक चल रहा था लेकिन धीरे-धीरे दोनों के बीच झगड़े शुरू हो गए. लर्लिन रोज एक गार्मेंट बिजनेस की मालिक थी तो वो अपने बिजनेस के सिलसिले में न्यूयॉर्क में रहने लगीं. इस दौरान हिल्टन को एक चिट्ठी मिली जिसमें लर्लिन रोज के अफेयर का जिक्र था. हिल्टन ने इस बात को अपनी पत्नी के सामने रखा. पत्नी ने साफ तौर पर मना कर दिया कि चिट्ठी में जिस ल़ड़के का जिक्र है वह सिर्फ उनका दोस्त है. लेकिन कुछ दिनों बाद हिल्टन को उस पुरुष की चिट्ठी मिली जोकि लर्लिन रोज के लिए लिखी गई थी. 

हिल्टन ने कोर्ट में पेश की एक अलग दलील

पत्नी के अफेयर की बात हिल्टन को नगावर गुजरी और हिल्टन ने उन्हें गोली मार दी. हालांकि हिल्टन ने कोर्ट में कहा कि वह खुद को गोली मारना चाहते थे लेकिन छीना झपटी के दौरान पत्नी को गोली लग गई लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लर्लिन के शरीर से 7 गोलियां मिली थी. इसके बाद कोर्ट ने हिल्टन को मौत की सजा सुनाई. और 17 मई 1955 को उन्हें फांसी के फंदे पर लटका दिया गया. इस तरह लेस्ली हिल्टन इतिहास में पहले क्रिकेटर बनें जिन्हें फांसी के फंदे पर लटकाया गया.

Leave a Reply