Nirma Girl: हर ब्रांड की एक सक्सेस स्टोरी होती है. ब्रांड के बड़े होने के साथ उसमें कई बदलाव भी होते हैं लेकिन उसका लोगो या फिर प्रोडक्ट आइकन हमेशा एक ही होता है. ऐसा ही कुछ निरमा वॉशिंग पाउडर के साथ भी है. कपड़े धोने वाले इस सर्फ के विज्ञापनों ने इस प्रोडेक्ट को अमर कर दिया. इसके विज्ञापनों में काम करने वाले कलाकार बदले, जिंगल बदले लेकिन पैकेट पर नजर आने वाली वो लड़की कभी नहीं बदली, जिसकी फ्रॉक हवा में लहरा रही होती है. तो चलिए बताते हैं आपको कौन है यह निरमा गर्ल और कैसे बड़ा बना यह ब्रांड.   

डिटर्जेंट पाउडर के पैकेट पर नजर आने वाली इस लड़की (Nirma Girl) का नाम है निरुपमा, और इसी निरुपमा के नाम पर रखा गया है इस सर्फ का नाम निरमा. दरअसल निरमा की शुरुआत गुजरात के व्यापारी करसण भाई ने की थी. निरुपमा उनकी बेटी का नाम था, जिसे वो (Nirma Girl) प्यार से निरमा बुलाया करते थे. एक हादसे में निरमा की मौत हो गई थी. 

करसण भाई ने वॉशिंग पाउडर की शुरुआत 1969 में की थी, उनकी कोशिश पाउडर बेचने से ज्यादा अपनी बेटी के नाम को अमर करने की थी और इस बात में कोई संदेह नहीं कि वह ऐसा करने में कामयाब रहे. 

दरअसल उन दिनों फोटों क्लिक करना ज्यादा प्रचलित नहीं था. लिहाजा करसण भाई के पास बेटी की इकलौती तस्वीर थी, जिसे उन्होंने अपने दिल से लगाकर रखा था. जब इस प्रोडेक्ट को लॉन्च किया था तो उन्होंने इस फोटो पर पैकेट पर सबसे ज्यादा जगह दी. 

अब आते हैं करसण भाई ने कैसे इस बिजनेस को बड़ा कैसे किया. जिन दिनों निरमा को लॉन्च किया गया उस समय वाशिंग पाउडर महंगी चीजों में शुमार हुआ करती थी. करसण भाई ने पहली बार बाजार के दामों से पांच गुना कम की कीमतों के पाउडर को उतारा. शुरुआत में वो खुद साइकिलों पर जाकर इसकी डिलेवरी किया करते थे. माल बिक तो रहा था लेकिन दुकानदार पैसे देने में आनाकानी किया करते थे. 

ऐसे में करसण भाई ने अपनी बची हुई पूंजी से एक विज्ञापन तैयार करने की ठानी. विज्ञापन के पहले प्रसारण ने ऐसा जादू दिखाया कि बाजार से सारे निरमा के पैकेट गायब हो गए. इसके बाद दुकानदारों को मजबूरन एडवांस में पैसे देकर निरमा खरीदना पड़ा.

Leave a Reply