Sleep While Traveling

Sleep While Traveling: ट्रेन सुबह की हो या शाम की, बैठने के बाद इंसान ऊबासी लेने लगता है. सफर के दौरान बड़े से बड़े घुमक्कड़ों को नींद आने लगती है. अगर आपको यह छोटी-मोटी बात लगती है तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कई शोधकर्ता नींद (Sleep While Traveling) के दौरान आने वाली इन वजहों पर अपना सिर खपा रहे हैं, तो चलिए आपको उन कारणों के बारे में बताते हैं जिनकी वजह से सफर के दौरान नींद आती है.  

स्लीप डेब्ट Sleep Debt

सबसे पहली वजह तो होती ‘स्लीप डेब्ट’ मतलब की ‘बची हुई नींद’. अक्सर ऐसा होता है कि सफर पर निकलने से पहले लोगों को रात में जल्दी उठना पड़ता है इस वजह से नींद पूरी नहीं हो पाती है, कई बार सफर पर जाने की इतनी एक्साइटमेंट होती है कि इंसान रात भर घड़ी देखता रह जाता है. ऐसे में सफर के दौरान शरीर अपने नींद की भरपाई आपसे बिना पूछे कर लेता है. लिहाजा लोग ट्रेन, कार या फ्लाइट में सोते हुए दिखाई देते हैं. 

हाइवे हिप्नोसिस (High Way Hypnosis)

दूसरी वजह बड़ी लाजिम है, इंसान का बोर होना. दरअसल यात्रा के दौरान जब इंसान अकेला होता है और सुरक्षित महसूस करता है तो दिमाग को एक खास तरह के संकेत मिलते हैं. यह संकेत बिल्कुल सोने से पहले बिस्तर पर लेटने जैसे होते हैं. लंबे सफर में छक कर सोने को विज्ञान की भाषा को हाइवे हिप्नोसिस कहा जाता है. इससे बचने के लिए आपको अपने दिमाग को व्यस्त करना होगा या फिर चाय या कॉफी की चुस्कियां लेनी होंगी. अब तो समझ गए होंगे कि एक घंटे की फ्लाइट में एयर होस्टेज चाय क्यों लेकर चलती हैं. 

व्हाइट नॉइज (White Noise)

अब इस नींद आने की तीसरी और सबसे बड़ी वजह पर आते हैं. इसे कहते व्हाइट नॉइज. व्हाइट नाइज एक खास प्रकार का शोर होता है. जो निरंतर कान में जाता रहता है. जैसे कि इंजन की आवाज, हवा की सरसराहट या फिर मधुर संगीत की धुन. इस शोर के साथ गतिमान वाहन से पैदा हुआ कंपन आपके दिमाग को एक खास अवस्था में पहुंचा देता है. इसे समझने के लिए आप बच्चों को देख सकते हैं, जो बच्चे थोड़ी देर पहले चहचहा रहे होते हैं वो मां की गोद में आने के बाद थपथपाहट के प्यारे एहसास और लोरी की आवाज से शो जाते हैं. 

सोपाइड सिंड्रोम (Sopide Syndrome)

ये सारी अवस्थाएं तो सामान्य होती हैं लेकिन कुछ लोग सोने में भयंकर माहिर होते हैं. वो 10 से 15 मिनट की राइड के दौरान भी झपकी लेने लगते हैं. ऐसे लोग सोपाइड सिंड्रोम से ग्रसित होते हैं जो एक खास तरह के मोशन के बाद नींद महसूस करने लगते हैं. अब यहां तक पढ़ लिया है तो इस जानकारी को दूसरों के साझा भी करें, फटाफट अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करें. 

Leave a Reply